September 23, 2021

इस जिले में हेल्थ वर्कर ने जीता ग्रामीणों का विश्वास, 50 हजार का किया कोरोना जांच

जिले में कोरोना की दूसरी लहर के बीच वैक्सीनेशन को जारी रखा. लोगों को ठीका लगाने राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (RBSK), मोबाइल मेडिकल यूनिट (MMU) की टीम गांव-गांव जाकर जनजागरूकता के माध्यम से लोगों का विश्वास जीतने में सफल हुआ, जिसका परिणाम अब जिले में देखने को मिल रहा है.

जिले के बग़ीचा ब्लॉक के कोविड जांच टीम ने कोरोना जांच सैंपल के 49000 (उनचास हजार) के आंकड़े को पार कर 50 हजार के आंकड़े पर पहुंचने जा रहा है. जाहिर है एक जंग थी जिसे जितना था. लक्ष्य यही था कि हर संदिग्ध की जांच हो जाये, उपचार हो. साथ ही आइसोलेशन, कोविड सेंटर, कोविड अस्पतालों तक मरीजों के उपचार को सुनिश्चित करना, और इन माध्यमों से संक्रमण को भी थामना था.

गौरतलब है जिले में अब तक सबसे ज्यादा बग़ीचा ब्लॉक में टेस्टिंग हुई, जहां कल 1 जून के आंकड़े के अनुसार 49166 सैम्पलों की कलेक्शन और जांच हुआ है. जिसमें अब तक 3994 कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई. इसके अलावा जिले के अन्य ब्लॉकों की जांच की बात की जाए तो जशपुर 36792, पत्थलगांव 35825, कुनकुरी 32563, कांसाबेल 25302, फरसाबहार 23109, लोदाम 21606, दुलदुला 17815, मनोरा 14354 की जांच हुई है.

बग़ीचा बीएमओ डॉ आरएन दुबे ने कहा कि हमने कोशिश की है, और हमारी टीम ने बेहतर काम भी किया है. कोरोना को लेकर गांवों में भ्रांति फैली थी. जांच से भागते लोगों को समझाइश दिया गया. साथ में प्रेरित भी किया. टीम ने हर संक्रमित क्षेत्र में पड़ाव डाला. इस प्रयास से जांच सेंटरों में लोग भी पहुंचे, एक वातावरण प्रदान करते हुए जांच के पड़ाव को 50 हजार के करीब पहुंचा दिया है. यही जांच हमें कोरोना से जीत की ओर ले जा रहा है. आज हमने अपनी टीम जो दिन रात काम कर रही है, उनके साथ केक काटकर इनके उत्साह निरंतर बनाये रखने की कोशिश की है.