Article:- Bhayankar badh se jujh raje keral aai krass swaim sewako

केरल में आई जल महाप्रलय से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। दक्षिण भारत का यह तटवर्ती राज्य 100 सालों की सबसे भयंकर बाढ़ में डूबा हुआ है। ऐसे में लगभग 4,000-5,000 आरएसएस स्वयंसेवक प्रत्यक्ष रूप से वर्तमान में बाढ़ प्रभावित केरल में बचाव और राहत मिशन में राज्य एजेंसियों और सेना को सहायता और सहयोग प्रदान कर रहे हैं। अभी भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं का देश के विभिन्न हिस्सों से सेवा कार्य के लिए पहुंचना जारी हैं। केरल से एक दुखद खबर यह भी आ रही हैं कि आरएसएस कार्यकर्ता रघुनाथ, कुछ पीडि़तों को बचाने के दौरान पलक्कड़ के एक गंदे इलाके में डूब गए।

आपको जानकर हैरानी होगी, केरल राज्य में हर साल दर्जनों आरएसएस स्वयंसेवको को बेरहमी पूर्वक नृशंस हत्या कर दी जाती हैं, लेकिन संकट की घड़ी में आरएसएस ने यह सब भुला कर बिना किसी स्वार्थ के केरल के लोगो की सेवा में जुटी हुई हैं। जहाँ कुछ संगठन ऐसी सेवा के बदले “धर्म-परिवर्तन” की शर्त रखते हैं वही आरएसएस इस सेवा के बदले कोई मूल्य नही मांगता और हर जात-सम्प्रदाय की बिना किसी भेदभाव के सेवा करता हैं। सिर्फ केरल ही नही देश के किसी भी हिस्से में आपदा आने पर संघ के स्वयंसेवक सबसे पहले पहुंचते हैं।

केरल सदी की सबसे बड़ी तबाही से इस वक्त जूझ रहा है। 100 साल में कभी ऐसी तबाही केरल ने नहीं देखी। अबतक 370 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। 6 लाख से ज़्यादा लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं। हजारों मकान बाढ़ के पानी में समा गए हैं, सड़कें धस गई। चारों ओर केवल पानी ही पानी नजर आ रहा है।

एक तरफ जहां सेना भगवान बनकर लोगों की मदद कर रही है। वहीं पूरी दुनिया से केरल की मदद के लिए लोग आगे आ रहे हैं। राजनेता से लेकर अभिनेता और आम आदमी भी मदद के लिए हाथ बढ़ा रहे हैं।

केरल के भयावह बाढ़ के मंजर के बीच स्वयंसेवकों की कुछ ऐसी हीं तस्वीर सामने आ रही है। जिसे देखकर कोई भी आदमी संघ के स्वयंसेवकों को सलाम करने से अपने आप को रोक नहीं पाएगा। केरल में बाढ़ पीडि़तों की मदद के लिए हजारों की संख्या में स्वयंसेवक पहुंचे हैं और वह लागातर आपदा की इस घड़ी में केरल के लोगों के साथ खड़े नजर आ रहे हैं। ऐसे में संघ का विरोध करनेवालों की बोलती भी इन तस्वीरों को देखकर बंद हो जाएंगी।

केरल में आए जलप्रलय में आरएसएस कार्यकर्ता वहां के लोगों की हर मुमकिन मदद कर रहे हैं। ये पहला मौका नहीं है जब आरएसएस कार्यकर्ता किसी आपदा प्रभावित क्षेत्र में लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं। इससे पहले भी हर बार मुसीबत पडऩे पर आरएएस कार्यकर्ता मदद के लिए सामने आते रहे हैं। देश तो देश नेपाल में आए भूकंप के समय भी संघ के स्वयंसेवक मदद के लिए वहां पहुंच गए थे।केरल जलप्रलय में आरएसएस कार्यकर्ता पीडि़तों की मदद के लिए हमेशा तैनात हैं। सोशल मीडिया पर वायरल हो रही आरएसएस कार्यकर्ताओं की तस्वीर और वीडियों की लोग जमकर तारीफ कर रहे हैं.

तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि कैसे केरल में बाढ़ पीडि़तों के लिए आरएसएस कार्यकर्ता हर मुमकिन मदद की कोशिश कर रहे हैं। साथ हीं स्वयंसेवक अपनी जान की परवाह किए बिना वहां के लोगों की जान बचाने की कोशिश में लगे हुए हैं।

इतना ही नहीं आरएसएस कार्यकर्ता बाढ़ में फंसे लोगों का रेस्कयू कर उन्हें सुरक्षित स्थानों पर भी पहुंचा रहे है।

मुसीबत की इस घड़ी में आरएसएस कार्यकर्ता दिन रात बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। कार्यकर्ता पीडि़तों के खाने से लेकर हर तरह की साम्रगी उपलब्ध करा रहे हैं।

वहीं यूके का एक संगठन भी केरल के लोगों की मदद के लिए आगे आया है। यूके स्थित अंतरराष्ट्रीय मानवतावादी राहत संगठन बाढ़ प्रभावित केरल में 2000 से अधिक लोगों को भोजन प्रदान करने के लिए आगे आया है। यूके स्थित सिख संगठन के भारतीय विंग खालसा सहायता, लगभग 2000 लोगों को भोजन उपलब्ध करा रहा है। सिख स्वयंसेवक प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को फूड मुहैया करा रहे हैं।

इसने अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट किया। हमारे स्वयंसेवक बाढ़ प्रभावित 2000 लोगों को ताजा खाना उपलब्ध करा रहे हैं। ट्वीट में कहा गया है कि खालसा एड बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद के लिए एक और किचन स्थापित करने जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *